ये दीपावली खुशियों वाली – वास्तु टिप्स |

0
189

ये दीपावली खुशियों की दीपावली वास्तु टिप्स आपके घर के लिए कुलदीप द्विवेदी के द्वारा इस दीपावली वास्तु के ऐसे प्रेक्टिकल और लॉजिकल टिप्स जो हर किसी परिवार के लिए करना आसान है
प्रश्न ये की वास्तु टिप्स ही क्यों? क्योकि देश काल परिस्थिति के कारन सबकी मान्यता या सुविधा समरूप नहीं होती कुछ लोग ज्योतिष या तंत्र के उपाय नहीं कर पाते इन सभी परिस्थितियों में वास्तु सामान रूप से आपको फल देता है अमीर हो गरीब हो किसी भी देश से हो वास्तु सबके लिए एक है
उपाय १. आपके घर या फ्लैट के मुख्य दरवाजे की स्थति ही आपके घर में ऊर्जा के प्रवेश का द्वार है अगर दरवाजे की पोजीशन सही तो लगभग सबकुछ सही अगर दरवाजे की पोजीशन सही भी है परन्तु दरवाजा ठीक से नहीं खुलता आवाज करता है टुटा फूटा है तो भी नकारात्मक ऊर्जा आपके घर में प्रवेश करती है इसलिए दरवाजे को मजबूत सुन्दर बनाये यही पहला उपाय है दरवाजे के दोनों तरफ गणेश जी की तस्वीर रख सकते है पर इसमें ध्यान ये देना है की दोनों एक जैसी हो अधिकतर घरो में वास्तु विजिट के दौरान ये पाया है की ये अलग अलग होती है |

उपाय २. जब भी धन की बात आती है तो हमारा ध्यान हमेशा तिजोरी की स्थति तरफ जाता है अधिकतर वास्तुशास्त्री भी यही भूल करते है आपके धन का सम्बन्ध आपके किचन से है क्योकि यही तो ऊर्जा का स्त्रोत है किचन साफ़ सुथरी होने से आपको प्रत्यक्ष रूप से स्वस्थ रखती है परन्तु अप्रत्यक्ष रूप से आपके धन के प्रवेश व् सदुपयोग से है अब हर परिवार इसे साफ़ सुथरा रखता है परन्तु कुछ दोष जिन्हे नगण्य समझता है वो निम्न है एक किचन में दरारे न हो अधिकतर प्लेटफॉर्म के निचे या टांको में दरारे होती है या दरारे आपके धन को दीमक की तरह चाट जाती है इसलिए इन्हे तुरंत ठीक कराये|
इसके साथ ही अग्नि कोण में किचन होने से हालाँकि ये किचन के लिए उपयुक्त जगह है लेकिन यहाँ पर यदि पानी का दुरूपयोग किया तो भी आपको शान कमाने में अधिक परिश्रम करना होगा| अधिकतर घरो में ये समस्या होती है पानी का उपयोग उतना ही करे जितना जरुरत है|
अब जो समस्या हम डिसकस कर रहे है ये पारिवारिक समस्या है घर में झगडे होना बच्चो का बात को नहीं मानना| नैतिकता में कमी यदि ये सब कारण आपके घर में है तो दो काम आप जरूर करते होंगे पहला रात को आटा गूँथ कर रखते होंगे २. घर में खाना बनाने वाली स्त्रियों का मन स्वस्थ नहीं या घर में कोई बाई रोटी बनती होगी उपाय सिंपल है रोटी का आटा उतना ही गुंथे जितना जरुरत हो और घर की स्त्री ही यह कार्य करे| और पोसिटिविटी के लिए मंत्र चलाये घाना बनाते समय सकारात्मक सोच के साथ खाना बनाये

उपाय ३. अधिकतर सफाई करते वक्त हम कुछ चीजे वापस घर में कबाड़ की रूप में इकट्ठी कर लेते है जिसको आपने सालो से यूज तक नहीं किया ये आपके घर में नकारात्मकता लाता है जिस प्रकार ठहरा हुआ पानी ख़राब हो जाता है उसी प्रकार या नकारात्मकता आपके इंवेस्टमेंट्स को ख़राब कर देती है
अब चॉइस आपकी है इन्वेस्टमेंट पेपर को आपके घर में जगह देनी है या है या कबाड़ को

उपाय ४. छत को साफ रखे अगर अकस्मात या मानसिक परेशानी से छुटकारा पाना है तो |

उपाय ५. धन को रखने की सही दिशा क्या है? ९०% घरो में वास्तु विजिट के दौरान गलत पायी हैं जिसकी सही हो गयी उसककी नेट वर्थ काम नहीं हो सकती | कुछ किताबे पढ़कर या टीवी मैगजीन में उपाय सुनकर अधिकतर लोग गलती कर बैठते हैं आईये अब जानते हैं कैसे धन को दो प्रकार से विभाजित किया गया हैं १ चल यानि रोजमर्रा की कार्यो में उपयोग होने वाला और दूसरा अचल यानि सेविंग्स जिसको कभी खर्च न करना पड़े | अचल को दक्षिण पश्चिम के कोने से पश्चिम के कोने में रखे और चल को उत्तर की दिशा में रखे|
साथ ही जब भी तिजोरी खोले प्रसन्नता के साथ और भगवन को धन्यवाद देते हुए खोले | ओरिजनल दक्षिणावर्ती शंख भी रख सकते हैं | बस ये कर ले फिर देखे परिणाम |
उपाय ६. बैडरूम में कम से कम सामान रखे बेड के निचे सिर्फ बिस्तर तकिये चद्दर रखे अन्य चीजों को हटा दे
२ हाथी के जोड़े चांदी या मार्बल के रखे | लव बर्ड रखे|
उपाय ७. अधिकतर हम बहुत सी वास्तु ज्योतिष तंत्र के अनुरूप टीवी पत्रिका में देखकर इकठ्ठा कर लेते हैं सिर्फ इसी लालसा से की कोई तो काम कर जायेगा हम सुखी हो जायेगे परन्तु जिस प्रकार अधिक मात्रा में किया हुआ मेकअप भद्दा लगता हैं उसी प्रकार ये मिलकर ऊर्जा को अनियंत्रित कर देते हैं अधिक मात्रा में दवाई खाने से कोई जल्दी थोड़े हैं ठीक हो जाता हैं| और तो और अनेक वास्तु शास्री भी बहुत से आर्टिकल कागा देते हैं और काम बनने की जगह बिगड़ जाता हैं में ये नहीं कहता की ये सभी चीजे काम नहीं करती ये करती हैं लेकिन सही स्थान पर रखने से इसलिए हर चीज को सोच समझकर लगाए|
कुलदीप द्विवेदी वास्तुविद
संपर्क 9928851818

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here