भीलों के बारे में कुछ शब्द

0
168

ये information ख़ास तौर पर उन youngsters लिए है जिन्होंने भील जाति का सिर्फ नाम सुना है किन्तु उसके विषय में ज्यादा कुछ जानते नहीं हैं |

भील जाति मूलतः मेवाड़ की रहने वाली है और यह जाति तीरंदाजी में पारंगत होती है | भील लोग लड़ाके होते हैं और प्राप्त तथ्यों के अनुसार ये दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी जाति है | राजस्थान की जनता का 40% हिस्सा भीलों से भरा है | रामायण और महाभारत में भी भीलों का वर्णन आता है | रामायण के अनुसार माता शबरी भील जाति से थीं |

 culture-sub2ये लोग बाघदेव(tiger God) की पूजा करते हैं | स्थानीय देवी देवताओं में शीतलामाता और भैरो बाबा को माना जाता है | भीलों के अपने मंदिर नहीं होते और ये अपने इलाके के जादू टोने वाले लोगों के संपर्क में अधिक रहते हैं क्योंकि इस जाति में अंधविश्वास बहुत है | धार्मिक अनुष्ठान “भगत जी “ द्वारा संपन्न किए जाते हैं और मुखिया वहां के आपसी झगड़ों को सुलझाते हैं |

भील गीत-संगीत के शौक़ीन होते हैं | इनकी जाति रंगों से भरपूर होती है | “गैर” और “घूमर” नृत्यों द्वारा ये अपने देवी देवता को प्रसन्न करने में जुट जाते हैं | गारा मिट्टी के खिलौने बनाने में भीलों को महारथ हासिल है | इनके भोजन में मक्की की बहुतायत होती है और गेंहू का उपयोग सिर्फ तीज-त्योहारों पर किया जाता है |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here