दुनिया में सबसे successful और satisfied लोग कौन हैं?

0
98

क्या आपने कभी सोचा है कि दुनिया में सबसे successful और satisfied लोग कौन हैं?
I think, ये वो लोग हैं जिन्होंने अपने पैशन को अपना प्रोफेशन बनाया, फिर चाहे वो सचिन तेंदुलकर हों या अमिताभ बच्चन या फिर मास्टर शेफ संजीव कपूर या बिल गेट्स ही क्यों न हों! इन सभी ने अपने दिल के काम को अपने पैशन को अपना career, अपना profession या अपना business बनाया है और इसीलिए वे अपने-अपने क्षेत्रों में super successful हैं।
और अगर आप भी ऐसे लोगों की सूचि में शुमार होना चाहते हैं तो आपको भी अपने पैशन को अपने प्रोफेशन में बदलने की हर संभव कोशिश करनी चाहिए।
अगर आप इस बात का पता लगा चुके हैं कि आपकी प्रतिभा क्या है? आपका पैशन क्या है? आप जीवन में क्या बनना चाहते हैं? क्या करना चाहते हैं? तो मैं कहूँगा कि आप आधी जंग जीत चुके हैं।
अब बात करते हैं कि अपने पैशन को प्रोफेशन में कैसे बदला जाये ?

इसमें सबसे बड़ा barrier होता है, आपके स्वयं के भीतर का डर। ये डर अलग-अलग कारणों से हो सकता है। परन्तु जब तक इस डर का समाधान न कर लिया जाये, तब तक ज़िन्दगी में कोई भी कदम बढ़ाना बेहद मुश्किल है।
डर का होना कोई असामान्य बात नहीं है। बस ज़रूरत है उस डर का समाधान करने की।
कैसे करें डर का समाधान ?

हमारे अन्दर एक अज्ञात डर है। जो काल्पनिक है और केवल हमारे दिमाग की उपज है। ये डर हमें जीवन में आगे बढ़ने से रोकता है और अपने सपनों को साकार करने नहीं देता। पर आपने टी.वी. पर माउंटेन ड्यू का कमर्शियल ज़रूर देखा होगा, जो कहता है कि ‘डर के आगे जीत है’। जिस प्रकार अंधकार कितना भी गहरा हो, पर एक दीपक उस अंधकार को दूर कर देता है। उसी प्रकार डर का अंधकार कितना भी ज्यादा क्यों न हो, ज्ञान का एक दीप उसे हटा देता है।

जितना आप किसी विषय के बारे में अपना ज्ञान बढ़ाते हैं, उतना ही आपका आत्मविश्वास बढ़ता है और डर कम होता चला जाता है। तो जिस भी Field में आप अपना Career बनाना चाहते हैं, ज़रूरी है कि उसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी इक्कठी करें। आज का युग, सूचना प्रौद्योगिकी (Information Technology) का युग है। अब कोई भी जानकारी पाना काफ़ी आसान हो गया है।
ये बेहद ज़रूरी है। अधिकतर लोग प्रतिभा की कमी की वजह से असफल नहीं होते बल्कि इसलिए होते हैं क्योंकि वे action नहीं लेते।

जो कदम उठाता है वही अगले पायदान पर कदम रख पाता है। केवल सोचते रहने से बात नहीं बनेगी। ज़रूरी है कि हम कदम आगे बढाएं। संभव है कि राह में बाधाएं हों, हो सकता है कि कुछ गलतियाँ भी हों। पर सीखता भी वही है जो गलती करने की हिम्मत रखता है।

यदि जीवन में कभी भी लगने लगे कि लक्ष्य हासिल नहीं हो पायेगा तो लक्ष्य को नहीं बल्कि लक्ष्य तक पहुँचने का रास्ता बदलिए।

समझदार इंसान वही है जो हार कर अपने लक्ष्य को नहीं बदलता बल्कि वहाँ तक पहुँचने के लिए लगातार नए रास्ते खोजता रहता है। इसलिए किसी भी पॉइंट पर ये मत सोचिये कि आपके मन का काम आपको financially support नहीं कर सकता बल्कि ऐसा हो जाए इसके लिए नए-नए रास्ते खोजते रहिये।
– Praveen Kumar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here